Thursday, May 25, 2017

मजा फागु के

देशी भेल विलुप्त, विदेशी-
सेहो नगर स' विला गेलै ।
मजा फागु के लेबे करबै
भांगे स' जग हिला देबै ।।
भोरे स' सिलौट-लोढ़ी ल'
रगरम-रगरा मचा देबै ।
सुकना, बुधना, लखना आबै
हुड़दंगी के मजा लेबै ।।
रस्ता सबके घिना देलक सब
बचल ने कत्तौ कादो-थाल ।
होरी मे मदमस्त भेलै सब-
कूदि-फानि छै हाल-बेहाल ।।
पठशल्ला पर धूम मचाक'
गली-कूची के धंगतनि आइ ।
ब्रह्म बबा के रंग लगेलक,
डिहबारो के रंगतनि आइ ।।
बैर बिसरतै गला मीलिक'
हँसतै-गेतै सब मिलि आइ ।
कुस्ती-ररधुम्मस सब करतै,
रंग मे डुबतै सब मिलि आइ ।।

Wednesday, May 24, 2017

सूक्ष्म आ स्थूल

रूप दू टा वस्तु सबहक
सूक्ष्म आ स्थूल बूझी ।
ज्ञानमार्गी सूक्ष्म, मार्गी-
कर्म के स्थूल बूझी ।।
बात, विस्तृत-सूक्ष्म सनके
द्वैत आ अद्वैत भ' गेल ।
भक्ति मे अछि द्वैत, जखने-
एक भेल अद्वैत भ' गेल ।।
कृपें ईशक ऐल सद्गुण,
सद्गुनें आबैछ भक्ति ।
भक्ति स' हो ज्ञान, ज्ञानक-
वृद्धि स' बाढ़ैछ भक्ति।।
शूक्ष्म आ स्थूल मे नै                                                                                                                                           भेद विग जन किछु बुझै छथि।                                                                                                                               एक बिनु आकार के आ                                                                                                                                         अपर साकारे रहै छथि।।  

परी



जूडो मे ऑरेन्ज बेल्ट-
गणितहुँ मे सबके पढ़ा देली ।
जिम्नास्टिक मे कूदि-फानि क',
सब चटिया के हरा देली ।।

लुत्ती छथि पोती हम्मर                                                                                                                                            ई हारब नै सून' चाहथि।                                                                                                                                 धक्का-धुक्की सब छन्हि माफे                                                                                                                                 जीत मुदा होमक चाही।। 
खेल-कूद मे मोन लगै छनि                                                                                                                                     टी भी के छोड़थि ने कखनो।                                                                                                                               मोन रमल छनि आइ-पैड मे                                                                                                                                 संग ओकर छोड़थि ने कखनो।। 
भोजन मे कनियो ने रुचि छन्हि                                                                                                                               दूध-दही नै नीक लगै छनि।                                                                                                                               आम अंचारो रुचिगर हुनका                                                                                                                                   सुप्पी नूडल नीक लगै छनि।।
रुस'-फुल' मे औव्वल छथि ई                                                                                                                            बौंस' के चाभी हम जनलहुँ।                                                                                                                      बात हमर मानब जँ नै त'                                                                                                                                    पटना के रस्ता हम धरलहुँ।।    

होली मिलन 2017

No automatic alt text available.Image may contain: 2 people
Image may contain: one or more people and text
कल्ह ऑस्टिन के बरसानेधाम गए । कृपालु महाराज के इस आश्रम में होली मिलन का आयोजन किया गया था । राधाकृष्ण की भव्य मूर्तियों को खूब सजाया गया था । कलाकारों द्वारा ब्रज-होली गीतों पर सुन्दर प्रस्तुतीकरण किया गया । राधाकृष्ण के विभिन्न होली गीत एक वरिष्ठ साधिका द्वारा आगे आगे और दर्शकों द्वारा पीछे पीछे गाए गए । उन गीतों पर श्रोताओं द्वारा खूब नृत्य किए गए । एक साधक द्वारा होली मनाने के उद्देश्य और पृष्ठभूमि पर महत्वपूर्ण प्रकाश डाला गया । बाद में खुले में होली खेला गया । भारत में बरसाने/ वृन्दावन की होली खेलने/ देखने का सौभाग्य तो नहीं प्राप्त हुआ है लेकिन अमेरिका के इस होली में ब्रजकी होली का साक्षात् दर्शन हुआ । होली के बाद विभिन्न प्रकार के व्यंजनों का लुफ्त उठाया गया । अहा! आनंद!आनंद!                                 

Image may contain: 7 people, people smiling, people standing and outdoorहोली रंग मे रंगल जगत
स्वागत वसंत मे लागल सब छथि ।
भेद-भाव सब क्यो बिसरल

Tuesday, May 23, 2017

इनग्राम पार्क मॉल

Image may contain: 4 people, people smiling, people standingImage may contain: table and indoor
काल्हि सैन एंटोनियो के इनग्राम पार्क मॉल गेल रही । 2000 गाड़ी लगाब' जोग विशाल पार्किंग एरिया, बड़का-बड़का विभिन्न प्रकारक लगभग 150 दोकान, लगभग 20 टा दोकान अत्यंत विशाल (5००'*400' साइज़) के छल हेतैक, बच्चा सबके खेलेबाक आकर्षक स्पेस, एक स्मॉल वर्ल्ड- दुनियाक सब वस्तु एकेठाम थोक मे उपलब्ध, दू स्टोरी के विशाल भव्य मॉल मोन के मोहि लेलक । मीठीक कान सेहो ओतहि छेदैल गेलनि-आधुनिक तकनीक-दर्द विलकुल नै भेलनि ।

अमेरिकाक फगुआ

होली बहुतो बेर खेलेलहुँ,
थोड़-बहुत मोन के भाबै छल ।
ऐ बेरक आनंद मुदा नै,
आन बरख कहियो आबै छल ।।
नैसर्गिक आनंदक तुलना,
भौतिक सुख नै द' सकैत अछि ।
वृन्दावन-बरसाने धामक-
परतर किछु नै क' सकैत अछि ।।
कृष्ण-कन्हैया स' जे जुड़ि गेल,
तकरा भौतिक सुख की भायत ।
जे सुख, सागर-दरस-परस मे,
से की छुद्र कूप दय पायत ।।
भारतक राधाक नगरी 
एखन तक नै जा सकल छी।                                                                                                                                   मुदा से आनंद हम सब                                                                                                                               अमरिका मे पा रहल छी ।।  

फ्रेडरिकवर्ग गाँव

Image may contain: one or more people, people standing, plant, tree, flower, grass, house, outdoor and natureImage may contain: one or more people, tree, sky and outdoorआज हमलोग फ्रेडरिकवर्ग गाँव गए ।
वहाँ एक भव्य सुसज्जित आधुनिक बाजार है । एक छोटे से बाजार को सजाकर पर्यटन केंद्र कैसे बनाया जाता है कोई इनसे सीखे । फ्लावर प्लेस में हजारों एकड़ खेत में फूलों की खेती / खेत में से स्ट्रा बेरी स्वयं तोड़कर आवश्यकतानुसार खरीदना अनुकरणीय है । खेतों के फूलों को गमला में लगाना/ मधु का निर्माण करना / खेत में गमलों का मार्केट, खानपान का मार्केट, कृत्रिम झड़ना, पानी का श्रोत, मछली पालना एवं अन्य बहुत सारे एन्टिक्स पर्यटकों को बरबस आकर्शित करते हैं, हमलोग भी अपने क्षेत्र में जमीन की व्यवस्था कर अनुकरण कर सकते हैं ।